रविवार, 24 जनवरी 2010

कहना तो बहुत कुछ है।

बहुत िदनों से अपने ब्लाग पर कुछ िलख्ाने की सोच रही थ्ाी पर मैं तकनीकी िदक्कतों की वजह से िलख्ा पाने आैर पोस्ट कर पाने में सक्ष्ाम नहीं हो पा रही थ्ाी। आज िफर कोिशश की है,कहना तो बहुत कुछ है लेकिन अभ्ाी मैं इस माध्यम की तकनीक में कमजोर हंु आैर यहां बंगलूरू में अभ्ाी तक इस संबंध्ा में कोई मदद नहीं िदख्ा पायी है। लेकिन मेरी कोिशाशों जारी हैं ट्रायल आैर ईरर में यकीन करती हंू आिख्ारकार रास्ता बन ही जाएगा।

16 टिप्‍पणियां:

  1. प्रयाश करिए आप सफल जरूर होगी
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कह रहीं है, रास्ता बन ही जाना है प्रयास करते रहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका प्रयास सुंदर है ! हिंदी ब्लॉग जगत में क्या बैगलोर और क्या इंदोर! आप तो कोई भी टेक्निकल सहयोग चाहिए तो उड़ेल दीजिए एक पोस्ट अपने ब्लॉग पर फिर देखी सहयोग और साहयता के सैकड़ो हाथ तत्पर होगे.
    हां एक मुप्त में सलाह लिखा भेज रहा हु . वैसे हमारे ताऊ कहते है बिना मांगे कुछ भी नहीं देना चाहिए ...सलाह भी...हिंदी में लिखने के लिए सीद्धा-सादाएक लिंक भेज रहा हु अगेजी को हिंदी में लिखते जाए हिंदी खुद बी खुद बनती जाएगी. बस फिर क्या है कोपी पेस्ट वाला सिपलं नुस्खा अपनाए और पोस्ट जारी करे. शत प्रतिशत हिंदी लिखने की समस्या ठीक हो ही जाएगी.
    मजाक के लिए क्षमा करे!


    अपनी हिंदी को इंग्लिश में लिख कर हिंदी में पायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. रास्ता बनाने से ही बनता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. हां एक और बात ! जब हम आपके ब्लॉग पर कमेन्ट करते है तो वार्डवेरीफिकेशन शब्द पुष्टिकरण के ओपसन आता है जिससे टिपणी करने वाले के लिए टेशन का काम है, और तो और वार्डवेरीफिकेशन के ओपसन का कोई मतलब भी नहीं है. अर्थात उसे हट ले . ताकि कमेन्टकर्ता को सुविधा बनी रहे .
    सवसे पहले लोग इन होवे .
    फिर डेशबोर्ड पर सेटिंग्स को दबाए तो आपको वहा एक आप्सन मिलेगा
    टिप्पणियाँ
    बस उसे दबाइए तब एक पेज खुलेगा उसी में
    "टिप्पणी मॉडरेशन" में जाकर
    " कभी नहीं"
    आप्सन को चुने एवं अब निचे जाकर सेव कर दे . बस हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया है..प्रयास जारी रखें..सफलता एकदम नजदीक है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्लॉग पर आ कर अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रयाश है.


    आपका हिन्दी ब्लॉग जगत मे स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ढूंढने से सब मिलता है ..मुझे भी मिला था आपको भी मिलेगा .. हिम्मत न हारे । सेटिंग मे जाकर वर्द वेरिफिकेशन हटा दे ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी पोस्ट बहुत सुन्दर है!
    यह चर्चा मंच में भी चर्चित है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/02/blog-post_5547.html

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रयास शुरु करें कहां रुक गईं....

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरा हौसला बढाने के लिए बहुत बहुत शुकि्या!आगे भी इसी तरह मेरी
    हौसलाआफजाई करते रहेंगे यही उम्मीद करती हंू। आप सभी के सुझावों और मार्गदर्शन से मुझे बहुत मदद मिली है। आप सभी यूं ही अपना स्नेह बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं आप सब से एक आैर मदद चाहती हंू, क्या एेसा कोई टूल आपलोग जानते हैं जिसकी मदद से वड फारमेट में कृतिदेव फान्ट में टाईप सामग्री को ब्लाग में प्रकाशित करने के लिए कन्वट किया जा सके।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मनोरमा जी अगर आप रेमिलटंन फोन्ट की बात कर रही हैं तो शायद मुश्किल होगी...क्योंकी मुझे भी काफी दिक्कत आयी थी....कई पोस्ट हैं रेमिलटन में जो फिर से लिखने की हिम्मत नहीं है...अब में फोनेटिक ही करता हूं या सीधा रोमन में जो हिंदी में कन्वर्ट हो जाता है...आप भी एसा ही करें ..

    हां फोट कोई और है तो कोई न कोई तो सिखा ही देगा...

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.